हिंदू धर्म में मकर संक्रान्ति का सबसे अधिक महत्व है। हिंदू पंचांग अनुसार मकर संक्रांति को ही नए साल का आगमन माना जाता है। पूरे साल में इस दिन से बेहतर कोई शुभ दिन नहीं होता। आपने भी एक बात गौर की होगी कि मकर संक्रान्ति पर हमेशा खिचड़ी बनाई जाती है।

इस दिन बनाई जाने वाली खिचड़ी एक दिन पहले तैयार होती है यानी 13 जनवरी को और अगले दिन बासी खिचड़ी खाई जाती है। हालांकि जगह – जगह पर अलग रीति रिवाज मनाएं जाते है। अब आप सोच रहे होंगे कि बीस शुभ अवसर खिचड़ी ही क्यों खायी जाती है… तो चलिए आपको बताते है।


खिचड़ी भगवान कृष्णा को बेहद प्रिय है। उन्हे हमेशा से ही खिचड़ी का भोग लगाया जाता है। मोठ की दाल से बनी खिचड़ी का भोग भगवान को लगाने के बाद प्रशाद के रूप में खाया जाता है। अब आपको बताएंगे खिचड़ी के फायदे, जिसे सुन कर आप भी इसे अपनी डाइट में शामिल करना शुरू कर देंगे।

– खिचड़ी खाने से पेट संबंधी समस्याएं दूर होती है।
– अगर आपके पेट में गैस, गड़बड़ या आपको दस्त की समस्या परेशान करती रहती है तो आप सप्ताह में दो बार खिचड़ी का जरूर सेवन करें।
– ऐसा सांइटिफिक फैक्ट भी है कि सप्ताह में एक दिन उपवास करना बहुत अच्छा होता है। लेकिन जो लोग नहीं कर पाते वो लोग एक समय खिचड़ी खा कर सादे ढंग से दिन व्यतीत करते है।

– खिचड़ी खाने से पाचन तंत्र मजबूत होता है।
– खिचड़ी का सेवन शरीर की उत्तेजना को कम करता है जिससे ध्यान भक्ति की तरफ अधिक होता है।
– खिचड़ी के सेवन से व्यक्ति की एकाग्र क्षमता बढ़ती है। व्यक्ति का शरीर हृष्ट पुष्ट रहता है, जिससे आप स्वस्थ रहते है।
– खिचड़ी का सेवन करने से लीवर संबंधी बीमारियां दूर भागती है।