आज की चाणक्य नीति में आपको बताएंगे कि पुरुष के वैवाहिक जीवन के लिए किस तरह की महिलाएं श्रेष्ठ होती है। ऐसी महिलाएं मकान को घर बनाने का काम करती है। उनको रिश्तों की अच्छी समझ होती है। अपने प्यार के रिश्ते के मायने वो अच्छे से समझती है और निभाती है। इससे उसका पति के साथ रिश्ता और मजबूत बना रहता है।

कलेश
कभी भी कलेश और बात बात पर झगड़े को बढ़ाने वाली महिला से जीवन में कठिनाई आ सकती है। हमेशा समझदार और संयम रखने वाली महिला ही घर को संवार पाती है।

लालची
लालच जीवन के सुख को बिगाड़ देता है। कई बार लालच के चक्कर में हम उन चीजों को भी पीछे छोड़ देते है जिससे हमें खुशी मिलती है। लालच के कारण व्यक्ति अपने पास होने वाले धन को भी कई बार खो देता है। ऐसे में कभी भी इस आदत वाली महिला को अपने जीवन नहीं आने देना चाहिए। इससे जिंदगी में सिर्फ निराशा हाथ लगेगी। लालच रिश्ते में सही गलत सब कुछ भुला देता है। इसीलिए सुखी दांपत्य जीवन के लिए इस बात को जरूर ख्याल रखें।

आलसी
आलस इंसान को तबाह कर देता है। जीवन में आलस कई मुसीबतों को लेकर आता है। इंसान इससे आगे प्रगति नहीं कर पाता। वहीं मेहनती व्यक्ति हमेशा ही अपने जीवन को संवारने में लगा रहता है। वह हमेशा ही धैर्य और मेहनत से जिंदगी को अच्छा बनाता है। इसीलिए हमेशा मेहनती साथी ही चुनना बेहतर है, ताकि आगे की जिंदगी अच्छी रहे।

बाहरी सुंदरता ही ना देखे
आचार्य चाणक्य अनुसार वह इंसान सबसे अधिक मूर्ख है जो महिला की सिर्फ बाहरी सुंदरता देख कर विवाह करता है। विवाह बंधन के लिए सीरत का सुंदर होना अधिक जरूरी है। अपने जीवन साथ को चुनते समय सदैव उनके गुणों, आदतों का ध्यान रखे। ताकि जीवन में आगे कोई परेशानी ना आए।

समझदार महिला को बनाए संगिनी
आचार्य चाणक्य अनुसार समझदार और सूझबूझ वाली महिला से विवाह करना सबसे अधिक अच्छा है। ऐसी महिला घर को स्वर्ग बना देती है। महिलाओं की बचत की आदत, रसोई में समझदारी इन सभी गुणों का आधार सुखी वैवाहिक जीवन पर टिका होता है। शादी आपकी जिंदगी का बहुत बड़ा फैसला होता है इसीलिए अच्छे से विचार विमर्श करने के बाद ही हामी भरें।