मनुष्य के जीवन का दूसरा नाम संघर्ष है। इसी संघर्ष को जिंदगी कहा जाता है। कई बार ऐसे होता है कि किसी परेशानी के कारण हम इस संघर्ष में कमजोर पड़ने लगते है। ऐसे समय में आचार्य चाणक्य की नीतियां जीवन के संघर्ष में हमेशा से ही प्रेरणा देने वाली रही है। चाणक्य को श्रेष्ठ विद्वान होने के साथ एक कुशल कूटनीतिज्ञ भी माना जाता है।

आचार्य चाणक्य की नीतियों में मनुष्य के व्यक्तित्व के बारे में बहुत खुलकर विचार कहे गए है। आचार्य चाणक्य के अनुसार धन की कमी होना आम बात है। ऐसा भी होता है कि कई लोगों की किस्मत में ज्यादा देर तक धनराशि टिकती नहीं है जिससे वो परेशान है जाते है। मनुष्य को अपने जीवन में कुछ ऐसी आदतें अपनानी चाहिए जिससे धन वृद्धि होती रहे। करोड़पति बनने के लिए चाणक्य की इन बातों को हमेशा अमल करना चाहिए।


मेहनत से दूर होगी हर परेशानी
आचार्य अनुसार कभी भी मेहनत से दूर ना भागे। मेहनत से ही आप सफलता की सीढ़ियां चढ़ पाएंगे। इसीलिए नियमित रूप से मेहनत करें, इसका फल हमेशा मिलता है।

अनुशासन होना बेहद जरूरी
चाणक्य अनुसार जीवन में अनुशासन का उतना ही महत्व है जितना मेहनत का। बिना अनुशासन मेहनत कभी सफल नहीं होती। इसीलिए हमेशा अनुशासन में रह कर अपने कार्य को पूरा करें।


समय का रखे खास ख्याल
समय की कद्र करना बहुत जरूरी है। धन से भी अधिक कीमती समय को समझने वाला व्यक्ति कभी भी अपने लक्ष्य से नहीं भटकता। इसीलिए करोड़पति बनने के लिए समय के महत्व को समझना भी बेहद जरूरी है।

धैर्य
कई बार ऐसा होता है कि मेहनत का फल उसी समय नहीं मिलता। लेकिन देर से ही सही पर मिलता जरूर है। इसीलिए धैर्य से काम लेना भी बहुत जरूरी है ताकि आप अपने मार्ग में डट कर चल सकें।


कार्य शुरू करने से पहले अच्छी तरह करें विचार
आचार्य चाणक्य अनुसार कभी भी बिना किसी योजना के नया कार्य शुरू न करें। ऐसा करने से धन हानि हो सकती है। करोड़पति बनने के लिए अपने विचारों को अमल करना सीखे। लेकिन उससे भी पहले कार्य के हर पहलू की अच्छे से जांच पड़ताल करें। धनवान बनने के लिए सबसे पहले एक अच्छे विचार और कार्य को लेकर गंभीरता होना बहुत ही जरूरी है।