मनुष्य को समाज में भी अपनी छवि को सही बनाकर रखना चाहिए वरना लोग बुरी नज़रों के साथ देखते हैं। लेकिन मनुष्य को अपना आचरण बदलने के लिए कई तरीके की आदतें हैं बदलनी पड़ेगी और कई तरीकों को अपनाना पड़ेगा। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे मनुष्य की ऐसी कौन सी आदतें हैं जो चाणक्य नीति के अनुसार उनकी मौत के बराबर है।


क्रोध
क्रोध मनुष्य के कई बड़े फैसलों को खराब कर सकता है। क्रोध में किया गया कोई भी फैसला कभी भी सही साबित नहीं हो सकता। क्रोध मनुष्य को धीरे-धीरे खोखला करता जाता है। ऐसे में कभी भी क्रोध के साथ कोई भी फैसला ना ले अपनी जिंदगी के हर छोटे-बड़े पहलू को सोच समझकर ही अपना फैसला चुने वरना मुश्किल हो सकती है।


लालच
ज्यादा कमाने की लालसा के चक्कर में मनुष्य अपना मौजूदा समय खो देता है। इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि पैसे से हर खुशी खरीदी नहीं जा सकती। इसीलिए अपने जीवन में संतुष्टि और धैर्य को हमेशा अपनाएं इससे लालच की भावना नहीं आएगी।

अहंकार
अहंकार करने वाला व्यक्ति कभी भी खुश और सुखी नहीं रह सकता। वह हमेशा से ही अपने गलत आचरण और व्यवहार के कारण लोगों की नजरों में बना रहता है। अहंकार के कारण जो जमा पूंजी होती है उसको भी जाने में ज्यादा समय नहीं लगता इसीलिए हमेशा अहंकार से बचना चाहिए ताकि आप आराम से प्रेमपूर्वक अपनी जिंदगी बिता सकें।